Kapil Dev Biography in Hindi || कपिल देव की जीवनी

पूरा नाम :- कपिल देव निखंज

जन्म :- 6 जनवरी सन् 1959 चंडीगढ़, पंजाब

पिता का नाम :- रामलाल निखंज

माता का नाम :- राजकुमारी लाजवंती

पहला टेस्ट मैच :- फैसलाबाद में पाकिस्तान बनाम भारत (1978)

पहला ओडीआई मैच :- क्यूटा में पाकिस्तान बनाम भारत (1978)

क्रिकेट के इतिहास में महान आलराउंडर के रूप में कपिल देव का नाम बिख्यात है। उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रह कर टीम को बहुतो बार विजय दिलाई थी। 1983 में वर्ल्ड कप जीतकर उनके नेतृत्व में ही भारतीय क्रिकेट टीम ने इतिहास रच डाला था। 

वह भारतीय क्रिकेट टीम में कुशल मीडियम पेस गेंदबाज, मध्यम क्रम के तेज हिट करने वाले बल्लेबाज, कुशल फील्डर तथा सर्ब श्रेष्ठ कप्तान रह चुके हैं। कपिल देव का पूरा नाम कपिल देव रामलाल निखंज है। तो चलिए  दोस्तो इस ब्लॉग में जानते हैं भारतीय दिग्गज खिलाड़ी कपिल देव के जीवन की सम्पूर्ण जानकारी SAMPURN JANKARI के बारे में। 

भारत के दिग्गज खिलाड़ी कपिल देव का जन्म 6 जनवरी, सन् 1959 को पंजाब के मशहूर शहर चंडीगढ़ में बिल्डर और लकड़ी के व्यापारी रामलाल निखंज के 6 वीं संतान के रुप में हुआ था। इनकी माता राजाकुमारी लाजवंती एक घरेलू महिला थीं। 

आजादी के बाद भारत-पाक विभाजन से पहले उनका परिवार पहले पाकिस्तान के रावलपिंडी में रहता था, लेकिन विभाजन के बाद उनका परिवार भारत में आकर रहने लगा। कपिल देव ने अपनी शुरुआती पढ़ाई चंडीगढ़ के डी.ए.वीं. कॉलेज से की और ग्रेजुएशन की पढ़ाई उन्होंने सेंट एडवर्ड कॉलेज से की थीं। 

इसे भी पढ़े :- Sonu Sood ki sampurn jankari 

वहीं कपिल देव को शुरुआत से ही क्रिकेट की तरफ अत्याधिक ललगाव होने की वजह से वे क्रिकेट की प्रैक्टिस करने लगे थे, उन्होंने क्रिकेट जगत के मशहूर कोच देश प्रेम आजाद से क्रिकेट खेलने की अद्भुत कला सीखी थी। 

वहीं साल 1980 में जब कपिल देव 21 साल के थे, तब इनकी शादी रोमी भाटिया से हो गई। शादी के बाद दोनों को एक बच्ची पैदा हुई जिसका नाम अमिया देव है। कपिल देव ने क्रिकेट जगत में अपना पहला मैच 1975  में हरियाणा की तरफ से खेला था जिसमें उन्होंने पंजाब के खिलाफ खेलते हुए 6 विकेट लिए थे और पंजाब को 63 रन पर सिमट दिया था। 

इस तरह हरियाणा की जीत हुयी थी। 1976-77 के सीजन में उन्होंने जम्मू कश्मीर के खिलाफ खेलते हुए 8 विकेट लेकर अपनी टीम को जीत दिलाई थी। इसके बाद उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा और 1978 में उन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच पाकिस्तान के खिलाफ खेला था। 

1978 से लेकर 1994 तक उन्होंने भारतीय टीम को उचाइयो तक पहुचाया और कई रिकॉर्ड भी कायम किये। कपिल देव ने 131 टेस्ट मैचो में 5248 रन और 434 विकेट लिए हैं। अपने टेस्ट करियर में उन्होंने 163 रन की सर्वाधिक पारी खेली थी। 

इसके अलावा 1978 से लेकर 1994 तक उन्होंने 225 एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैचो में 3783 रन और 253 विकेट लिए हैं। अपने एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय करियर में उन्होंने 175 रन की सर्वाधिक पारी खेली थी। कपिल देव विश्व क्रिकेट में सबसे कम समय में 100 विकेट लेने वाले खिलाड़ी बने थे और सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी थे। 

इसे भी पढ़े :-  शाहिद भगत सिंह के जीवन की सम्पूर्ण जानकारी

कपिल देव ने भारतीय क्रिकेट को नई दिशा प्रदान की और स्वयं भी प्रशंसा और प्रसिद्धि पाई। 1983 में कपिल देव के नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट टीम ने विश्व कप जीता था। कपिल देव एकमात्र भारतीय क्रिकेटर हैं जिन्हें तीन राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं । 1979-80 में उन्हें ‘अर्जुन पुरस्कार’ दिया गया था। उन्हें ‘पद्मश्री’ पुरस्कार से तथा 1991 में ‘पद्मभूषण’ से सम्मानित किया गया था। 

70 के दशक में भारतीय टीम में कोई अच्छा ‘ओपनिंग बॉलर’ नहीं था । तब कपिल का क्रिकेट में आगमन हुआ । वह दाहिने हाथ के मध्यम गति के अनूठे खिलाड़ी रहे जो अपने समय के सर्वश्रेष्ठ ‘हिटर’ रहे और वह मानवीय संवेदनाओं से पूर्ण एक श्रेष्ठ बल्लेबाज थे जिन्होंने अभूतपूर्ण सफलता प्राप्त की। कपिल देव ने 1994 मे अन्तर-राष्ट्रीय क्रिकेट को अल्विदा कह दिया। 

1999 मे उन्हे भारतीय क्रिकेट टीम का कोच चुना गया। उनकी अवधि के दौरान भारत का प्रदर्शन कुछ खास नही रहा। इसके बाद उन्होने अपने कोच के पद को त्याग दिया। 2005 मे उन्होने खुशी नामक एक राष्ट्रीय सरकारी संगठन की अस्थाना की। अभी वे उसके अध्यक्ष है। खुशी दिल्ली मे कम विशेषाधिकृत बच्चो के लिये तीन विद्यालय चलाती है। 24 सितम्बर 2008 को उन्होने भार्तीय प्रादेशिक सेना मे भाग लिया और उन्हे लेफ्टिनेंट कर्नल के रूप मे चुना गया। 

इसे भी पढ़े :- प्रथम भारतीय स्वतंत्रता सेनानी मंगल पाण्डेय के जीवन की सम्पूर्ण जानकारी

तो धन्यवाद दोस्तो यह ब्लॉग पढ़ने के लिए, यह ब्लॉग आप सभी को कैसा लगा कमेंट में हमे जरूर बताएं अगर अच्छा लगा हो तो लाइक करें अपने दोस्तों को शेयर करें। तो चलिए दोस्तों मिलते हैं आने वाले ब्लॉग में जय हिंद जय भारत।                                                   Amazon 

Post a Comment

और नया पुराने